"हाँ मैं खूबसूरत हूँ" By Kavi Agyat - Hindi Biography World

Breaking

Follow by Email

Tuesday, October 16, 2018

"हाँ मैं खूबसूरत हूँ" By Kavi Agyat



मैं उसी की क्लास में पढ़ती थी, और सच बताऊँ तो मैं बस पढ़ती थी, मुझसे अपने बाकी के क्लासमेटस की तरह कभी भी पढ़ाई के अलावा और कुछ जरूरी लगा ही नहीं | मैं बाकी लड़कियों से काफी अलग सी थी | मुझे याद है उस वक़्त तक मेक अप का म भी मुझे नहीं पता था | मैं अपने मन में सोचा करती थी कि कैसे ये वाली लड़कियां इतनी अच्छी नज़र आती हैं, कैसे ये इतना अच्छा बोल लेती हैं, सच बताऊँ तो मेरी आवाज़ भी काफी दबी दबी सी थी | ऐसा हो सकता है कि शायद मैंने कभी इतनी किसी से बात नहीं की तो शायद आवाज़ दब गई हो | खैर वो मुझसे बिल्कुल उलट था, चेहरे पर एक चमकता तेज, लहराते बाल, हल्की दाढ़ी और जब तेज आवाज में जब वो असेंबली हाल में बोलता था, तब बस मन करता की सुनती जाऊं, सुनती जाऊं | संजीदगी से लेकर हँसी मजाक तक, हर चीज में उसने पीएचडी कर रखी थी | कभी मेरी सामने सामने बात नहीं हुई थी | मुझे इतना पता था बस कि मैं उससे प्यार करती हूं | शुरुआत में तो मैंने इस बात को मानने से इंकार कर दिया था क्यूंकि मुझे पता था कि मुझ जैसों को प्यार करने का कोई हक़ नहीं है | मेरी नज़रों में मैं कभी इतनी बुरी नहीं थी, पर प्यार दो लोगों के बीच का मसला है और सामने वाले की नज़रों में शायद मेरी या मुझ जैसी किसी सामान्य से कमतर लड़की को प्यार करने का हक़ न हो | बहरहाल उसे देखते देखते मेरे दिन गुजरने लगे | मैंने उस पर कई कविताएँ लिखीं, कई नज़्में लिखीं और लिखकर उन्हे छुपा दिया, सबकी नज़रों से दूर | मुझे ये सब उसे सुनाना था, उसे बताना था कि मैं उससे कितना प्यार करती हूं, पर ये होना नामुमकिन था, ये मैं जानती थी | दिन बीतते गए और मेरी बेचैनी बढ़ती चली गई | एक दिन बेचैनी ने अपनी सारी हद पार कर दी और मुझे लगा कि मुझे हिम्मत करके कह देना चाहिए | उसकी एक बेस्ट फ्रेंड थी | मैंने उससे बात की, मैंने उसे बताया कि मेरे मन में क्या है और मैंने उससे जानने की कोशिश की, कि किन तरीकों से मैं उसके दिल में अपनी जगह बना सकती हूं | वो सिंगल था ये बात पूरे कॉलेज को पता थी और हर दूसरी लड़की उससे पसंद करती थी ये बात भी लगभग सभी जानते थे | मुझे भी पता था कि शायद अब मेरे सपने टूटने वाले हैं, पर जुनून भी कोई चीज होती है साहब | मैं चाहती थी कि उसे जाकर इजहार कर दूँ | उसकी हाँ तो ठीक और न में फिर कभी उसे अपनी शक्ल न दिखाऊँ | उसकी हाँ की उम्मीद तो मुझे लगा नहीं रही थी, पर दिलाशों ने समा बांधा हुआ था | मैंने सोचा था कि मैंने अपने बर्थडे पर उसे प्रपोज करूंगी | उसकी बेस्ट फ्रेंड ने उससे मेरे बारे में बात की थी, और हमारी मीटिंग भी फ़िक्स हो चुकी थी| उसकी बेस्ट फ्रेंड ने मुझे कहा कि वो मुझे इस तरह सजाएगी कि वो कभी मना नहीं कर पाएगा | मुझे हौले हौले उसपर भरोसा होने लगा | मेरे दिल से उसके लिए लाख दुआएं निकल रहीं थी | दिन गुजरते गए और वो दिन भी आया | मैं उसकी बेस्ट फ्रेंड के घर पर थी और उसने करीब 2-3 घंटो तक मेरा मेक अप किया था | फिर मैंने खुद को आईने में देखा तो मुझे काफी खराब लगा | मेरा चेहरा किसी भूत की तरह नज़र आ रहा था, बालों को देखकर लग रहा था जैसे कि उन्हे फेविकॉल से चिपका दिया गया हो | मैंने उसकी बेस्ट फ्रेंड से जब कहा इस बारे में तो उसने कहा कि तुम्हें मेक अप की समझ नहीं है, उसे ऐसी ही लड़कियां पसंद है, तुम अच्छी लग रही हो | कुछ देर के संशय के बाद मैंने ये बात मान ली | मुझे लगा कि शायद मैं ही गलत हूँ | खैर, वो कैफे जहां हमें मिलना था वो घर से कुछ ही कदम की दूरी पर था और हम वहां चले गए | उसकी बेस्ट फ्रेंड ने मुझे कहा था कि जाकर सीधे प्रपोज कर देना | हम वहां पहुंचे और वो सामने के टेबल पर ही बैठा था | कैफे काफी खाली खाली सा था | उसने मुझे देखा और हल्का सा मुस्कुराया और बैठने के लिए कहा | फिर उसने अपनी बेस्ट फ्रेंड की ओर देखकर पूछा कि कहो क्यूँ बुलाया है तुमने मुझे यहां | उसने उससे कहा कि ये तुमसे कुछ कहना चाहती हैं | मैंने उसकी ओर देखा, उसने मुझसे झूठ कहा था, उसने ऐसी कोई मेरे बारे में उससे कोई बात नहीं की थी |उस वक़्त तक वहां मेरे ही कॉलेज के काफी लोग आ चुके थे | मैं काफी ज्यादा हैरान थी | मैं घबराई हुई थी | पर मुझे ये करना था | मैंने आँखे बंद की ओर तेज़ आवाज में कह दिया कि हाँ "आई लव यू" | आस पास के सब लोग ज़ोर ज़ोर से हँसने लगे और वो बिल्कुल हक्का बक्का हो गया | उसकी बेस्ट फ्रेंड भी काफी जोर जोर से हँस रही थी |  मुझे समझ आ गया कि मेरे साथ बहुत बुरा मजाक किया गया है | मेरी आंखो से आंसू बहुत जोर से बह रहे थे और जिस कारण मेक अप आधे से ज्यादा बह गया था | मैं पागल लग रही थी | मैंने उसकी बेस्ट फ्रेंड को बहुत जोर से थप्पड़ जड़ दिया | सब सपने टूट चुके थे  | मैं हर किसी को कोस रही थी, क्यूँ हूँ मैं इतनी भद्दी और बुरी? वहां सब कुछ थमा हुआ था | मैं लगातार रो रही थी और अचानक वो अपनी जगह से उठा और मेरी ओर आने लगा | उसे अपनी ओर आता देख मैं डरने सी लगी थी, शायद अपनी बेस्ट फ्रेंड को चांटा खाते देख वो गुस्सा हो गई हो | मैंने रोते रोते ही बुदबुदाने लगी, "सॉरी सॉरी" | वो मेरे पास आया और उसने अपना रुमाल निकाला और मेरा सारा मेकअप साफ कर दिया | उसने मेरे हर एक आंसू को पोंछ दिया और मुझे जोर से गले लगा लिया | मैं कोई भी रिएक्शन नहीं दे पा रही थी | उसने मुझसे कहा कि यस आई लव यू टू...! 
उसने मुझे कहा कि सुनो पागल सी लड़की, मैंने तुमसे ज्यादा खूबसूरत कभी कोई नहीं देखा |
आंसुओं और मुस्कुराहट के बीच उस लम्हे में ज़िन्दगी का इंद्रधनुष खिलखिला रहा था |
हाँ मैं खूबसूरत हूँ, दुनिया में सबसे ज्यादा खूबसूरत!
©® Kavi Agyat

Related Posts 


Related Sections

2 comments: