"Take care" Tales by Kavi Agyat - Hindi Biography World

Breaking

Follow by Email

Tuesday, October 16, 2018

"Take care" Tales by Kavi Agyat


कई दिन हो गए अब तुमसे बात किये हुए|मैं अक्सर सबसे कहता हूँ कि शायर होने के लिए एक उम्र जीनी पड़ती है, पर मगर कोई मेरी बात का यकीन ही नहीं करता, सबको पता है कि मैं बस अट्ठारह का हूँ और शायर हूँ, तो कहाँ जी मैंने कोई उम्र|हाँ ये जो कई दिन तुमसे बिना बात किए बीते हैं, इनमें मैंने कई साल बितायें हैं, एक एक दिन के एक एक पल को गिन गिन कर काटा है|पता हैं जब भी किसी की कॉल आई मुझे लगा कि तुम हो, इंस्टा के हर फॉलोवर से लेकर फेसबूक के हर लाइक तक में, मैंने पागलों की तरह ढूंढा हैं तुम्हें, कि कहीं... कहीं मुझे अपने सारे अकाउंटस से ब्लॉक करके तुम किसी फेक आई डी से देखने आई हो कि आखिर मैं ज़िंदा भी हूँ या मर गया | कई बार तुम्हारा नंबर डायल बॉक्स में टाइप करके बैकस्पेस कर दिया, मुझे पता है कि मैं ब्लॉक हूँ|

खैर अब आदत हो गई है|बहुत खूबसूरत हो तुम, बहुत प्यारी हो और आवाज तो खैर यूँ लगता है जैसे बारिश की बूंदे जमीन पर गिर कर कोई संगीत बना रही हों|याद है मैं अक्सर कहता था कि तुम्हें कोई भी मिल जायेगा|पर मुझसे अलग होने के चार दिन बाद ही मिल जाएगा, ये मुझे नहीं पता था|खैर बधाई हो, भगवान तुम्हारे इस नये रिश्ते को दिन पर दिन मजबूत बनाएं|काफी कुछ है मुझमे जो मैं तुमसे कहना चाहता हूं, पर नहीं, अब उसकी कोई जरूरत नहीं|खैर मिस 'इन लव विद समवन इनोसेंस'... टेक केयर...!
.
.
©® Kavi Agyat

No comments:

Post a Comment