"Wo Lamha" Tales by Kavi Agyat - Hindi Biography World

Breaking

Follow by Email

Tuesday, October 16, 2018

"Wo Lamha" Tales by Kavi Agyat


पता है सब कहते है कि ज़िन्दगी और मौत के बीच न एक लम्हा होता है, बड़ा खूबसूरत होता है. उसको पाने के लिए एक लंबी खीज भरी ज़िन्दगी बितानी पड़ती है,और फिर आता है ऐसा लम्हा. इस लम्हे में वो सब मुकम्मल होता है जो एक इंसां उम्र भर चाहता है. जाने क्यूं मुझे ऐसा लगता है कि तुम्हारा आना भी वही लम्हा था. इस लम्हें का हर एक पल मेरे जेहन में इस कदर संभाल के रखा गया है, ज्यों किसी तिजोरी में कुछ बेशकीमती गहने रखे हों. तुम्हारे आने से इस बियाबान के सन्नाटे में जो पायल की झंकार उठी थी, उसकी गूँज अब हमेशा मेरे कानों में हैं. अंधेरा था यहां कुछ नहीं दिखता था, एक बार को तो मुझे यकीं हो चला था कि मैं अंधा हूं, पर तुम्हारी आँखों से जब देखा तब पता चला कि जहां की खूबसूरती क्या होती है....
आज तुम चली गई हो, यानी वो खूबसूरत लम्हा बीत गया है..
अब पता है मौत होगी,
एहसासों की, मोहब्बत की, धड़कनों की,.. मेरी..!
क्यूँकि वो लम्हा था ज़िन्दगी और मौत के बीच का...!
.
©® Kavi Agyat

1 comment: