माँ बहुत बुरी थी - Hindi Biography World

Breaking

Follow by Email

Monday, November 12, 2018

माँ बहुत बुरी थी


दिन वो बचपन के तब सब, पुराने लगते थे,
मुझे बेकार लोरियों के तराने लगते थे,
ऐसा लगता था, कोई संग धोखा हुआ है,
सफ़ल होने से मां ने मुझे रोका हुआ है,
रुला देता था मैं, शब्द कड़े बोलकर,
मुझे उड़ना था तब, पर मेरे खोलकर,
मां क्या जाने, कि मुझको बड़ा होना था,
इमारतों के शिखर पर खड़ा होना था,
था मैं कश्ती, न लगता था घर साहिल मुझे,
मां भी लगने लगी थी, फिर जाहिल मुझे,
मां के आगे, भर जो मेरा गला आया फिर,
मां की मर्जी से, उन्हे छोड़ मैं, चला आया फिर,
मैंने बनाई इक, दुनिया चमकती हुई,
मां नहीं याद थी, राह तकती हुई,
मां की आशंका हुई सच, संग धोखा हुआ,
समझ आया क्यूँ माँ ने था, रोका हुआ,
पास गया माँ के, फिर मैं सब कुछ छोड़कर,
जा चुकी थी माँ भी तब,बिन कफ़न ओढ़कर,
हाय! दिखावे का लबादा मैंने ढोया बहुत,
मुझे देख, माँ की हड्डियों का ढांचा रोया बहुत, रोया बहुत...!

Kavi Agyat

Read more poems of Kavi Agyat

स्याह काली रात, छुपी छुपी सहर
चलो तुम्हें उस लड़के से मिलवाता हूं
मैं मोहब्बत में हूं
गणतंत्रता दिवस विशेष
मातम
महादेव वंदन
कैसे
गर तुम बेवफ़ा हो गईं
आलौकिक मिलन
वो पागल कहते हैं तुम्हें
इक तुम्हारा साथ हो
आशंका
"अर्थहीन"
तुमसे मोहब्बत करनी है
अब बात नहीं होती
#long_distance_relationship
तुम सुबह हो
इंतकाम
भरी भरी सी आँखे
मर चुके हैं अब सब
सिपाही का संदेशा
"आज़ादी" मुबारक
"अटल" याद आओगे
"कविता" क्या है
"टाइटैनिक : एक जहाज़"
"तुम कैसी नज़र आती हो"

No comments:

Post a Comment