Types Of Lovers - Hindi Biography World

Breaking

Follow by Email

Sunday, December 9, 2018

Types Of Lovers


बढ़ती हुई जनसंख्या के साथ, मोहब्बत, और नफ़रत का अनुपात भी बढ़ता जा रहा है | हर लड़के का लगभग दो बार ब्रेकअप हुआ है, और हर लड़की के पीछे लगभग दो लड़कों नें हाथ काटें है | आशिक कई हैं, मोहब्बतें कई है, निभाने के तरीके अलग अलग है, यूँ प्यार और प्यार करने वालों को समझना कतई आसान नहीं | पर ब्रेकअप के बाद तीन तरह के आशिक नज़र आते है | पहले तो वो जो "मैं फिर भी तुमको चाहूंगा" जेनर वाले होते हैं, इन बंदों को सब पता है,कि उनकी माशूक कितनी बेवफा थी या ये कितनी बुरी तरह बेवफ़ाई के शिकार हुए हैं, पर फिर भी ये अपनी चाहत को चाहना नहीं छोड़ते|
दूसरे वो जो थोड़े से खतरनाक जेनर के आशिक हैं, जो "ठुकरा के मेरा प्यार, मेरा इंतकाम देखेगी वाले आशिक हैं"| ये असल में हमारे पूर्वज जोकी बन्दर थे,उनकी विरासत और उन्हे तौर ढो रहे हैं| जैसे आप बंदर की ओर कुछ भी फेकिये वो अपनी प्रवृति के अनुसार लौटाएगा, ये भी उसी तरह करते है | इनकी ज़िन्दगी का एकमात्र मकसद होता है बदला, ये जब रिलेशनशिप में होते हैं, तब इतने वफादार होते हैं, जितना कि जानवर भी नहीं हो सकता, और ब्रेकअप के बाद ये इतने मगरूर और वहशी हो जाते है, जितना कि एक जानवर ही हो सकता है|
इन दोनों तरह के आशिकों नें कभी मोहब्बत की ही नहीं थी |ये बिल्कुल फेक हैं|क्यूँकि जब ये मोहब्बत करते, तब शायद इन्हें पता होता कि ब्रेकअप कभी होता ही नहीं| मोहब्बत का मतलब होता है दो रूहों का एक होना, रूहें कभी मरती है क्या भला | रूहें दब जाती हैं, इंसानों की बुराइयों के नीचे, उसी तरह सच्ची मोहब्बत भी दब जाती है, गलतफहमियों के नीचे, बेवजह की उम्मीदों के नीचे पर यार, वो कभी मरती नहीं, वो कभी ख़तम नहीं होती | और तीसरे और आखिरी किस्म के जो आशिक है,वो बहुत रेयर हैं |उनके लिए ब्रेकअप कभी होता ही नहीं, वो " तुझमें रब दिखता है, यारा मैं क्या करूं" वाले जेनर के होते हैं| इन्हें दूरियां, तन्हाइयां, बेवफाइयां तोड़ नहीं पातीं| इन्हें पता होता है कि मोहब्बत सांसारिक चीजों से कई ऊपर है|"
अच्छा सुनो तो सही,
" किसी तूफां के आजा ने पर मुझे छोड़ दोगी तुम अगर,
मेरी रूह में समाकर मेरा दिल तोड़ दोगी तुम अगर,
मैं इस जहां और उस जहां से छूट कर चाहूंगा तुम्हें,
जब भी चाहूंगा बस टूट कर चाहूँगा तुम्हें "


Kavi Agyat

Related Posts
"तुम्हारी मौत" Tales by Kavi Agyat
"मैं जी उठूंगा" Tales by Kavi Agyat
"Wo Lamha" Tales by Kavi Agyat

No comments:

Post a Comment